agriculture

यंत्र – आधुनिक कृषि में उपयोग एवं सावधानियाँ

यंत्र
Written by bheru lal gaderi

कृषि कार्यो को करने के लिए हम कई तरह के यंत्रों का उपयोग अपने दैनिक जीवन में करते है। अक्सर लोग कार्य करने की जल्दबाजी में दुर्घटना के शिकार हो जाते है। निश्चितरूप से हम यंत्र का उपयोग कार्य जल्दी पूरा करने के लिए करते है पर दुर्घटना को बुलाने के लिए नहीं।

अतः यंत्रो से पूरा फायदा उठाने के लिए यह अति आवश्यक है की उसके प्रयोग में सावधानी बरतें और दुर्घटना से बचें। कार्य करते समय निम्न सावधानियों को ध्यान में रखें।

यंत्र

यंत्र को दोष न दें

अच्छा कारीगर भी अपने यंत्र को दोष नहीं देता बल्कि काम शूरू करने से पहले वह अपने यंत्र को पूरी तरह समझ लेता हैं। क्योंकि अधूरी जानकारी से जहां यंत्र का सही उपयोग संभव नहीं हैं, वहां दुर्घटना होने की पूरी- पूरी सम्भावना रहती हैं। अतः यंत्र का प्रयोग करने से पहले उसकी रचना तथा कार्य प्रणाली को अच्छी तरह समझ लेना चाहिएं या प्रशिक्षण प्राप्त करें। निर्माता के निर्देशानुसार ही यंत्र की देखभाल, समायोजन तथा उपयोग करें।

You may like also – जैविक खेती – फसल उत्पादन एवं महत्व

उचित कपड़े पहने

पूर्ण स्वस्थ्य व सबल व्यक्तियों को ही यंत्र पर कार्य करना चाहिए। बच्चे, बूढ़े, अशक्त या नशा किये लोगों का यंत्र के प्रयोग से दुर्घटना हो सकती हैं। कार्य करने वाला व्यक्ति चुस्त कपड़े पहने क्योंकि ढीले- ढाले कपड़े यंत्र में उलझ कर दुर्घटना का कारण बन सकते हैं। यंत्र में लगे सभी सुरक्षा ढक्क्नों, उपकरणों को भी यथा स्थान लगा कर रखें।

रोशनी पर ध्यान दे

यदि रात के समय मशीन से काम लेना हैं तो समुचित प्रकाश का प्रबंध करें। फसल की कटाई, गहाई, सफाई करते समय खुली लो को पास में न आने दे अन्यथा सुखी फसल तुरंत आग पकड़ सकती हैं।

ऊंचाई लम्बाई का ध्यान रखें

एक ही स्थान पर कार्य करने वाली मशीनों को भली- भांति फर्श पर स्थिर कर लें जिससे वे चलते समय हिले- डुले नहीं,  इन यंत्रों के पत्तनालों को ऐसी ऊँचाई पर रखें कि उन पर कार्य करने वाले व्यक्ति को कार्य करने में सुविधा हो। यदि आवश्यक हो तो यक्ति के बैठने के लिए चबूतरा या सीट बना ले। किसी भी तरह को निर्धारित सीट पर बैठकर ही चलाये, खड़े होकर कार्य करने से दुर्घटना होने की संभावना रहती है।

You may like also:- ड्रिप सिंचाई प्रणाली से कम लागत में अधिक उत्पादन

ढलान और मोड़ का ध्यान रखें

किसी भी स्वचालित यंत्र को ढलान से नीचे लाते समय उसे गियर में  ही रखें नहीं तो यंत्र की गति अनियंत्रित होकर दुर्घटना हो सकती है। यंत्र को कभी भी तेज गति में और चढाई तरफ नहीं मोड़ना चाहिए या पीछे चलाने से पहले यह सुनिश्चित कर ले कि उस दिशा में यंत्र ले जाने के लिए पर्याप्त स्थान खाली है तथा चलने से पहले चालक का दिशा संकेत अन्य लोगों को स्पष्ट दिख रहा है।

तेल पानी कब डालें

किसी भी मशीन में तेल डालने से पहले उसे बन्द कर लें। चालू मशीन या गर्म इंजन में तेल डालने से आग लग जाने का खतरा रहता है। गर्म इंजन के जल शीतक में पानी डालने से पहले उसके ढक्क्न को हल्का सा घुमाकर भाप निकल जाने दे तथा धीमे चलते इंजन में धीरे-धीरे पानी डाले नहीं तो दुर्घटना है।

बिजली का सही इस्तेमाल करें

बिजली का कोई भी कार्य प्रशिक्षित यक्ति को ही करना चाहिए तथा कोई भी मरम्मत करने से पहले बिजली के प्रवाह को बन्द कर लें। सभी जोड़ों को मजबूती से कसकर बंधे तथा तार के सभी जोड़ों पर विघुत रोधी टेप लगाकर अच्छी तरह से ढक दें। लाइन में फ्यूज अवश्य लगायें और बिजली के यंत्रो का अर्थ से कनेक्शन अवश्य करें।

You may like also:- अधिक उत्पादन के लिए आधुनिक कृषि पद्धतियाँ

यंत्रों की उचित देखभाल

यदि यंत्र पर कार्य करने से पहले उसकी पूर्ण सामयिक देख-रेख कर ली जाय तो मशीन भी अच्छा कार्य करेगा और टूट-फुट की संभावना भी नहीं रहेगी। यदि मशीन में कोई खराबी हो तो उसे काम में न लें या उसकी खराबी ठीक कर लें। मशीन पर कार्य करने वाले व्यक्तियों के अतिरिक्त अन्य व्यक्तियों को पास न आने दें, वे दुर्घटना के शिकार का कारण बन सकते है।

क्षमता के अनुसार कार्य करें

प्रत्येक यंत्र के कार्य करने की एक निश्चित क्षमता होती है। यदि उस क्षमता से अधिक कार्य भार डाला जाएगा तो उसकी आवाज में परिवर्तन हो जाता है। अतः इसकी सामान्य आवाज का ध्यान  रखें। यदि आवाज में कोई परिवर्तन हो जाता है तो तुरंत यंत्र को रोक कर उसका कारण जानकर निवारण करें , अन्यथा खतरा हो सकता है। यंत्र पर कार्य करने वाले व्यक्तियों के थक जाने पर उन्हें आराम दें। थकावट की स्थिति में भी कार्य करने पर दुर्घटना हो सकती है।

अतः  सावधानीपूर्वक कृषि यंत्रो का उपयोग करके आप किसी भी संभावित दुर्घटना से बचकर लम्बे समय तक विभिन्न कृषि यंत्रो का उपयोग कर सकते है।

You may like also – ढूंढाड़ में महक रही ‘अमेरिकन केसर’ किया प्रयोग मिली सफलता

Facebook Comments

About the author

bheru lal gaderi

Hello! My name is Bheru Lal Gaderi, a full time internet marketer and blogger from Chittorgarh, Rajasthan, India. Shouttermouth is my Blog here I write about Tips and Tricks,Making Money Online – SEO – Blogging and much more. Do check it out! Thanks.