agriculture

बीटी कॉटन की अनुमोदित कंपनियों की किस्मों का विवरण

बीटी कॉटन
Written by bheru lal gaderi

बीटी कॉटन (B.T. Cotton) की बुवाई 15 अप्रैल से शुरू होकर 30 मई तक की जाती है। कपास का रेशा निकालने के पश्चात बिनौले का प्रयोग पशु आहार के रूप में किया जाता है। कृषक बीटी कॉटन की खेती के उन्नत तरीके एवं उन्नत किस्में अपनाकर अधिकतम उत्पादन प्राप्त कर सकता है।

तो किसान भाइयो आइये जानते है बीटी कॉटन की अनुमोदित कंपनियों की विभिन्न उन्नत किस्मों के बारे में:-

बीटी कॉटन

बीटी कॉटन की विभिन्न उन्नत किस्में

नुजिवीडू सीड्स :-

एन.सी.एस.- 912, 913, 459, 145, 855, 858, 92, 955, 4455, 993, 924, बीटी-2

प्रवर्धन सीड्स:-

पीआरसीएच-333, 78, 73  बीटी-2

महाराष्ट्रा हाइब्रिड सीड्स:-

एमआरसी-717, 7347, 7351, 7365, 741, 7361, 7377 बीटी-2

अमर बायोटेक:-

एबीसीएच- 299, 243, 192, 244, 4899, 7399 बीटी-2

तुलसी सीड्स:-

तुलसी- 4, 45, 162, 225, 9, 118, 171 बीटी-2

अंकुर सीड्स:-

अंकुर- 651, 2226 जय बीटी, 328, 3228, 3224, 3244, 5642, 812, 216, 334, अक्का जस्सी-जय, अंकुर समरजीत बीटी-2

सीड वर्क्स:-

एसडब्ल्यूसीएच- 477, 4744, 47-55, 4713, 474, 4749 बीटी-2

Read also – कपास की फसल में पोषक तत्वों का प्रबंधन कैसे करें

सुपर सीड्स प्रा.लि.:-

सुपर-5, 544, 511, 721, 931, 965, 971 बीटी-2

बायो सीड्स:-

बायो- 6488-2, बायो-6539-2, 6261-1, 6451, 251-2, 2113-2, 311-2, 91-2, 7211-2 बीटी-2

जायलम सीड्स:-

एनऐसीपीएल-2223, 252, बीटी-2

प्रभात एग्री बायोटेक:-

पीसीएच- 964, 877, 962, 965, 969, बीटी-2

बायर बायो साइन्स:-

एसपी- 77, 71, 7149 बीटी-2

जे.के. एग्री:-

जेकेसीएच- 1947, 15 बीटी, जेकेसीएच- 19, 99 डबल बीटी, इन्द्रावज्रा डबल बीटी, जेकेसीएच-894 बीटी-2

सोलर एग्रीटेक:-

सोलर- 65, 77, 76, 75, गोल्ड स्टार बीटी-2

श्री राम बायो सीड्स:-

841-2, 846-2, 6165-2 बीटी-2

सन एग्रो सीड्स:-

वीआईसीएच-39, 31, 33, 323 बीटी-2

Read also – कपास में बूंद- बूंद सिंचाई पद्धति अपनायें

कावेरी सीड्स:-

केसीएच-77, 14-के-59, 15-के-39, केसीएच-36, केसीएच-311, 189, 999, बीटी-2

अजीत सीड्स:-

एसीएच- 33-2, 133-2, अजीत- 155, अजीत- 199 बीटी-2

राशि सीड्स:-

आरसीएच-134, 65, 653, 314, 62, 776, 569, शक्ति-9 बीटी-2

सफल सीड्स:-

एस.एस.बी.-93, बीटी-2

कृषि धन सीड्स:-

केडीसीएचएच- 541, 441, 641, 2, 22, 516, 722, 65, 532, 621 बीटी-2

मोनसेंटो:-

मोनसेंटो एस- 7, एस- 878, ब्रह्मा, सुदर्शन बीटी-2,

ग्रीन गोल्ड सीड:-

ग्रीन गोल्ड सीड-स, जीबीसीएच-95, 9, 8888 बीटी-2

कोहिनूर सीड्स:-

केएससीएच-27, 212, बीटी-2

मेटा हैलक्स लाइफ साइंस:-

एम.सी.-5423, 5363 बीटी-2

Read also – बी.टी. कपास की उन्नत खेती एवं उत्पादन तकनीक

नाथ बायोजिन:-

एनसीईएच-6, 31, 26, 14, काशीनाथ (जेएफएम),

रोहिणी सीड्स:-

सोलर-72, बीटी-2

धन लक्ष्मी क्रॉप:-

जेडसीएच-52, सुपरकिंग- 511, 545 बीटी-2

गंगा कोवरी सीड्स:-

जीके-239, 228,

कीर्तिमान एग्रो जेनेटिक लि.:-

महासम्राट-8152, महाबलवान-932, महेश-94

विभा एग्रीटेक लि.:-

वीबीसीएच-1534,

नवकार हाइब्रिड सीड्स:-

एनसीएच-316,

नामधारी सीड्स:-

नामकोट-617, 627, 641,

बायोसीड्स रिसर्च -251-2, बीटी-2 को पैकिट की अनुमति प्रदान की गई है।

मार्केटिंग कंपनियों की अनुमति निम्न प्रकार से है।

यागन्ती सीड्स:-

एनसीएस- 855 (तुरुष), अजरा बीटी-2

प्रावर्धन सीड्स:-

जोरदार सेंटिरा सहदेव, अनेरी, सन्हेरी, सूर्या, गोल्ड (शिवा), धनलक्ष्मी क्रॉप आर-551 , बीटी-2

Read also – कपास की फसल में कीट प्रबंधन

इनोवेशन ट्रांसजिन:-

संग्राम, सारथि-77, सारथि-65, बीटी-2

दीपक सीड्स:-

दीपक-1956, दीपक-1965

बायर क्रॉप साइंस:-

एसपी-7172, एसपी- 7121, बीटी-2

महाराष्ट्रा हाईब्रीड:-

विक्रांत,

 नुजिवीडू सीड्स:-

एबीसीएच- 243,(913) बीटी-2 मेटेहालेकस- एबीसीएच- 243,(सिकन्दर) नुजिवीडू-913 प्लस,

एशियन एग्री-शिल्पा प्लस,

कलश सीड्स- सरताज बीटी-2

बायोस्टेट इंडिया, प्रताप गोल्ड, स्प्रिहा बायो बिंग गोल्ड बीटी-2

यूनाइटेड क्रॉप साइंस:- त्रिशूल-551

Read also – पोटाश का प्रयोग एवं महत्व कपास की फसल में

नवभारत सीड्स:-

केसीएचएच-8152, गुरु, विजिता-94, नवभारत गोल्ड, एनबी-4364,

एक्सपर्ट जेनेटिक:- प्रमुख, गोपी

पाटीदार सीड्स:- लोटस, मेहुल, कान्हा

देसाई सीड्स:-केदार-32, 555, केदार एग्री टेक- केदार-955, अजितनाथ

पारस जेनेटिक:- आस्ट्रेलिन कंगारू, सुजीत-155, पेनिकल,

नर्मदा सागर एग्री :- नर्मदा-555, सरिता-18, वर्षा,

देसाई सीड्स कम्पनी:- परम लक्ष्मी, मेक्सइल्ड,

बायोजिन इंडिया लि.:- धर्मा-555,

रियान क्रॉप साइंस :- सिंधु-999, धर्मा,

सूरज क्रॉप साइंस प्रा. लि.:- सूरज युवा, सूरज सूर्या, सूरज प्रगति

न्यूसन जेनेटिक :-मस्ट बीटी व मस्ट बीजी-2 कम्पाण्डो,

कृभको- वर्षा, राजा,

कृष्ण सीड्स फार्म – नागराज,

वेस्टर्न क्रॉप स्टार गोल्ड,

श्रीराम एग्रीटेक – शक्तिमान,

हरिहरा एग्री – रुस्तम शंहशाह, राम्बे, पावर, तेज, बीटी-2,

अल्पगिरि सीड्स एजी रोबोट, टोटल, स्टार,

रेलीज इंडिया, अंजुषा,

जे.के. एग्री- जेके-1947, 8655, पास-पास, 19 बीजी-2 को अनुमति प्रदान की गई है।

Read also – सल्फर का प्रयोग कपास की फसल में जरूरी

लेखक:-

रामगोपाल शर्मा,
सयुंक्त निदेशक (अदान)
अर्जुनलाल
उपनिदेशक (बीज)
कृषि निदेशालय
पंत भवन जयपुर (राज.)

स्रोत :-

हरित क्रांति

वर्ष- 39  अंक- 20 25 अप्रैल 2017

Facebook Comments

About the author

bheru lal gaderi

Hello! My name is Bheru Lal Gaderi, a full time internet marketer and blogger from Chittorgarh, Rajasthan, India. Shouttermouth is my Blog here I write about Tips and Tricks,Making Money Online – SEO – Blogging and much more. Do check it out! Thanks.